मॉनसून में ऐसे रखें मोबाइल और गैजट्स को सेफ

0
159
हाल ही में खबर आई थी कि एक व्यक्ति ने बारिश में मोबाइल पर कॉल रिसीव की और उसमें ब्लास्ट हो जाने से उसकी मौत हो गई। मॉनसून ने दस्तक दे दी है और इसी के साथ मोबाइल को सेफ रखना बहुत मुश्किल भरा काम होता है। बारिश में खुद को बचाने के साथ-साथ बहुत जरूरी होता है। हम आपको कुछ तरीके बता रहे हैं, जिनकी मदद से आप अपने मोबाइल को भयंकर बारिश में भी एकदम सुरक्षित रख सकते हैं।

इनसे बचे:

  1. यदि बारिश में आप भीग रहे हैं तो कॉल रिसीव न करें।
  2. भीगे मोबाइल से तो कॉल कतई न करें। ऐसा करने से बैटरी में शॉर्ट सर्किट से फोन खराब हो सकता है और ब्लास्ट तक होने की संभावना रहती है।
  3. गीला होने के बाद अगर मोबाइल में कोई समस्या आ गई तो खुद उसे ठीक करने की कोशिश न करें।

1. सर्विस सेंटर पर ले जाएं:

यदि सुखाने के बाद फोन चालू कर लिया है तो उसे ज्यादा इस्तेमाल ना करें। कुछ देर पड़ा रहने दें। फोन को चार्जिंग पर न लगाएं। हो सकता है कि बैटरी अभी गीली हो। करंट मिलने पर शॉर्ट सर्किट हो सकता है। कम से कम 2 घंटे बाद ही बैटरी चार्ज करें।
सब करने के बावजूद भी ऑन न हो तो कंपनी के ऑथराइज्ड सर्विस सेंटर पर ले जाएं। खुद खोलने की कोशिश न करें। ऐसा करने से न सिर्फ फोन खराब हो सकता है बल्कि फोन वॉरंटी में है तो उसका फायदा भी आपको नहीं मिलेगा।

2. धूप में कतई न रखें:

फोन को धूप में कतई न रखें। अगर खुले में रखना है तो फोन को किसी कपड़े से ढक दें, जिससे सीधी धूप उस पर न पड़े। बैटरी को न धूप में रखें और न ही ड्रायर से सुखाने की कोशिश करें। ऐसा करना खतरनाक हो सकता है।

3. क्या न करें:

कुछ लोग फोन को सुखाने के लिए हेयर ड्रायर का इस्तेमाल करते हैं, ऐसा कतई न करें। फोन में बहुत नाजुक और हल्के कंपोनेंट लगे होते हैं, जो जरा भी गर्मी या आग से खराब हो सकते हैं। हेयर ड्रायर की हवा कई बार इन कंपोनेंट को ज्यादा गर्मी भी दे देती है, जिससे दिक्कत और बढ़ सकती है।

4. सिलिका पैक सोखते हैं मोबाइल की नमी:

घरेलू सामानों में सिलिका पाउच रखे होते हैं। उन्हें फेंके नहीं, संभाल कर रखें। भीगे मोबाइल को अच्छी तरह से पोछकर 2-3 सिलिका पैक के साथ भी डिब्बे में बंद करके रख सकते हैं। सिलिका पैक मोबाइल की नमी सोख लेंग।

5. चावल के डिब्बे में चावलों के बीच दबा कर रख दें:

फोन से पानी अच्छी तरह पोछने के बाद उसे चावल के डिब्बे में चावलों के बीच दबा कर रख दें। 8-9 घंटा चावल में रखने के बाद निकाल लें। चावल में रखने से मोबाइल से नमी खत्म हो जाती है।

6. फोन तुरंत ऑन न करें:

फोन तुरंत ऑन न करें। फोन तब तक बंद रखें जब तक कि वह सूख न जाए।म

7. फोन को पोंछे:

फोन को साफ सूती कपड़े से अच्छी तरह से पोछें।

8. फोन की बैटरी निकाल दें:

अगर सेफ्टी के तमाम इंतजाम के बाद भी फोन में पानी चला जाए तो परेशान न हों। फोन भीगने पर सबसे पहले फोन की बैटरी निकाल दें और सूखने के लिए रख दें।

9. बारिश में न करें फोन रिसीव:

बारिश में फोन रिसीव नहीं कर सकते तो कॉल काटने के लिए बाद में कॉल करने का डिफॉल्ट मेसेज सेव कर लें। फोन काटते ही यह मेसेज कॉल करने वाले तक चला जाएगा।
वैसे, मार्केट में कुछ ऐसे फोन भी हैं जो वॉटरप्रूफ या वॉटर रेजिस्टेंट हैं। हल्की-फुल्की बारिश का इन पर कोई फर्क नहीं पड़ता।

10. ब्लूटूथ या ईयरफोन का इस्तेमाल करें:

बारिश के दिनों में कॉल रिसीव करने के लिए फोन को पॉकेट से निकालने के बजाय ब्लूटूथ या ईयरफोन का इस्तेमाल कर सकते हैं। आजकल मार्केट में वाटरप्रूफ ब्लूटूथ हेडसेट भी उपलब्ध हैं। साधारण ब्लूटूथ हैंड्स फ्री 200 से 500 रुपये और वॉटरप्रूफ ब्लूटूथ हैंड्स फ्री 600 से 2000 रुपये तक में मिल जाते हैं।

11. प्लास्टिक कवर या बैग:

अगर इसके लिए कुछ खर्च नहीं करना चाहते तो प्लास्टिक का किसी भी तरह का कवर या बैग भी अपने पास रख सकते हैं। प्लास्टिक के जिप पाउच भी मार्केट में आते हैं जो वाटरप्रूफ और काफी हद तक एयर टाइट भी होते हैं। इससे मोबाइल में पानी तो क्या, नमी भी नहीं दाखिल होने पाती।

12. मोबाइल जिप पाउच:

अपने फोन को बारिश से बचाने के लिए एक खासतौर पर बने मोबाइल जिप पाउच खरीदें। 200 से 1500 रुपये तक में मार्केट में यह आसानी से उपलब्ध हो जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here